बीजेपी ने स्थगित की अमित शाह की रथ यात्रा, अदालत के आदेश का करेगी पालन

Please log in or register to like posts.
News
2019 के बाद अगले 50 वर्षों तक

बीजेपी ने स्थगित की अमित शाह की रथ यात्रा, अदालत के आदेश का करेगी पालन

बीजेपी ने पार्टी अध्यक्ष अमित शाह की कूचबिहार में प्रस्तावित रैली और रथयात्रा को स्थगति करने का निर्णय लिया है. पार्टी का कहना है कि वह कलकत्ता हाईकोर्ट के अंतिम फैसले का इंतजार करेगी जो उसी दिन पार्टी की अपील पर सुनवाई करेगा.पार्टी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने कहा कि बीजेपी एक जिम्मेदार राजनीतिक दल है और वह अदालत के आदेश का पालन करेगी. उन्होंने कहा, ‘रथ यात्रा कार्यक्रम के लिए हमारी सारी तैयारी पूरी हो गई है. अमित शाह भी कल आने के लिए तैयार हैं.’ हाईकोर्ट ने इस आधार पर रथ यात्रा आयोजित करने की अनुमति देने से इनकार कर दिया कि इससे साम्प्रदायिक तनाव उत्पन्न हो सकता है. पार्टी की खंडपीठ के समक्ष सुनवाई की अपील को मुख्य न्यायाधीश देबाशीष कारगुप्ता ने ठुकरा दिया. उन्होंने कहा कि सुनवाई शुक्रवार को होगी.इससे पहले, प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा था कि पार्टी शुक्रवार को रैली करेगी लेकिन रथ यात्रा को स्थगित करेगी जो पश्चिम बंगाल में पार्टी का सबसे बड़ा राजनीतिक अभियान बताया जा रहा है. अदालत के आदेश के बाद बीजेपी के शीर्ष नेताओं ने यहां पार्टी की रणनीति बनाने के लिए एक आपात बैठक की. न्यायमूर्ति तपब्रत चक्रवर्ती ने साथ ही यह भी कहा कि रैली 9 जनवरी को अगली सुनवाई तक स्थगित की जाती है.आपात बैठकविजयवर्गीय ने कहा कि पार्टी ने एकल पीठ के आदेश को चुनौती देने के लिए कलकत्ता हाईकोर्ट की खंडपीठ का रुख करने का फैसला लिया है. उन्होंने पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव अरविंद मेनन, प्रदेश बीजेपी नेता मुकुल रॉय और घोष के साथ पार्टी के अगले कदम के लिए आपात बैठक की. रॉय ने कहा, ‘हमारे पास प्लान बी है. खंडपीठ में अदालत के फैसले का इंतजार करते हैं.’उन्होंने कहा, ‘अगर सरकार कहती है कि हमारे रथ यात्रा निकालने पर वह कानून और व्यवस्था की स्थिति बनाए नहीं रख सकती तो मुझे लगता है कि राज्य में तत्काल राज्यपाल शासन लागू किया जाना चाहिए.’ हाई कोर्ट के आदेश की खबर मिलने के बाद बीजेपी के खेमे में निराशा फैल गई. रथ यात्रा के लिए व्यापक बंदोबस्त कर लिए गए थे. पार्टी ने इस रथ यात्रा को पश्चिम बंगाल की राजनीति में अहम बताया.कार्यकर्ता निराशस्थानीय बीजेपी नेता और उस जगह के मालिक जहां रैली होनी थी, चीनू कुंडु ने कहा, ‘हम तृणमूल कांग्रेस की सभी अड़चनों से निपटते हुए जिले में रथ यात्रा अभियान के लिए कड़ी मेहनत कर रहे थे.’ आसपास के जिलों से पार्टी कार्यकर्ता पहले ही कूचबिहार पहुंच चुके हैं और उन्हें निराश लौटना पड़ा. बीजेपी युवा मोर्चा के सैकड़ों सदस्य पिछली दो रातों से घटनास्थल और मंच की सुरक्षा कर रहे थे.राज्य में बीजेपी और सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस के बीच पोस्टरों के जरिए लड़ाई देखी जा सकती है. बीजेपी ने रथ यात्रा कार्यक्रम पर पोस्टर लगाए हैं और तृणमूल ने पोस्टरों में कहा, ‘केवल भगवान मदन मोहन रथ पर सवार हो सकते हैं और बीजेपी की रथ यात्रा साम्प्रदायिक तनाव भड़काने की कोशिश है.’ शाह का ‘लोकतंत्र बचाओ रैली’ अभियान शुरू करने का कार्यक्रम था. बीजेपी का सात दिसंबर से उत्तर में कूचबिहार से अभियान शुरू करने का कार्यक्रम था. इसके बाद नौ दिसंबर को दक्षिण 24 परगना जिला और 14 दिसंबर को बीरभूमि जिले में तारापीठ मंदिर से बीजेपी का रथ यात्रा शुरू करने का कार्यक्रम था.

Reactions

0
0
0
0
0
0
Already reacted for this post.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *