ISRO की अंतरिक्ष में एक और उड़ान, सफलतापूर्वक लॉन्च किया संचार उपग्रह GSAT-31

Please log in or register to like posts.
News
ISRO की अंतरिक्ष में एक और उड़ान, सफलतापूर्वक लॉन्च किया संचार उपग्रह GSAT-31

ISRO की अंतरिक्ष में एक और उड़ान, सफलतापूर्वक लॉन्च किया संचार उपग्रह GSAT-31

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) ने अपने 40वें संचार उपग्रह जीसैट-31 (GSAT-31) को सफलतापूर्वक लॉन्च कर दिया है. इसे फ्रेंच गुयाना के अंतरिक्ष केंद्र से देर रात दो बजकर 31 मिनट पर लॉन्च किया गया.

#ISROMissions #GSAT31 efficiently launched by #Ariane5 (#VA247) from French Guiana. After a 42-min flight, GSAT-31 separated from the Ariane 5 higher stage. @Arianespace pic.twitter.com/qVMm3hknSS
— ISRO (@isro) February 6, 2019
अंतरिक्ष एजेंसी के अनुसार इस उपग्रह (Satellite) का जीवनकाल 15 साल का है. कक्षा के अंदर मौजूद कुछ उपग्रहों पर परिचालन संबंधी सेवाओं को जारी रखने में यह उपग्रह मदद मुहैया करेगा. साथ ही यह जियोस्टेशनरी कक्षा में केयू-बैंड ट्रांसपोंडर की क्षमता बढ़ाएगा.

#ISROMissions
Here’s a lift-off video from @Arianespace.#GSAT31#Ariane5 (#VA247) pic.twitter.com/mHvltAXC1Y— ISRO (@isro) February 6, 2019
इसको ने एक बयान में बताया कि 2,535 किलोग्राम वजनी इस उपग्रह को फ्रेंच गयाना में कुरू से एरिएन-5 (वीए247) के जरिए लॉन्च किया गया. उपग्रह जीसैट-31’ को इसरो के परिष्कृत I-2K बस पर स्थापित किया गया है. यह इसरो के पूर्ववर्ती इनसैट/जीसैट उपग्रह श्रेणी के उपग्रहों का उन्नत (विकसित) रूप है. यह उपग्रह भारतीय भू-भाग और द्वीप को कवरेज प्रदान करेगा.इसरो ने यह भी कहा कि जीसैट-31 का इस्तेमाल सहायक V-Sat नेटवर्कों, टेलीविजन अपलिंक्स, डिजिटल उपग्रह समाचार जुटाने, DTH टेलीविजन सेवाओं, सेलुलर बैक हॉल संपर्क और इस तरह के कई ऐप्लीकेशन में किया जाएगा.इसरो के अनुसार यह उपग्रह अपने व्यापक बैंड ट्रांसपोंडर की मदद से अरब सागर, बंगाल की खाड़ी और हिंद महासागर के विशाल समुद्री क्षेत्र के ऊपर संचार की सुविधा के लिए विस्तृत बीम कवरेज प्रदान करेगा.(भाषा से इनपुट)

Reactions

0
0
0
0
0
0
Already reacted for this post.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *