पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी ने लाउडस्पीकर व माइक पर लगाई रोक, SC में बीजेपी की याचिका ख़ारिज

Please log in or register to like posts.
News
पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी ने लाउडस्पीकर व माइक पर लगाई रोक, SC में बीजेपी की याचिका ख़ारिज

पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी ने लाउडस्पीकर व माइक पर लगाई रोक, SC में बीजेपी की याचिका ख़ारिज

नई दिल्ली : पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस और भारतीय जनता पार्टी आरपार की लड़ाई में सामने आ गयीं हैं। राज्य सरकार ने बोर्ड परीक्षाओं के चलते लाउडस्पीकर और माइक के इस्तेमाल पर रोक लगाने का आदेश जारी किया था। जिसपर बीजेपी ने आपत्ति जताते हुए कहा था कि ममता बनर्जी ऐसा इसलिए कर रही है ताकि राज्य में बीजेपी अपना चुनाव प्रचार न कर सके। इस बाबत बीजेपी ने सुप्रीम कोर्ट से रिहायशी इलाकों में माइक और लाउडस्पीकर के इस्तेमाल पर लगी रोक हटवाने की मांग की थी। जिसे चीफ जस्टिस रंजन गोगाई की बेंच ने खारिज कर दिया।

बता दें कि पश्चिम बंगाल की प्रदेश बीजेपी ने दायर याचिका में कहा था कि राज्य में बोर्ड परीक्षा के बहाना बताकर मार्च महीने के आखिरी तक बंगाल के हर इलाके में लाउडस्पीकर बजाने पर रोक लगाने की अधिसूचना जारी करके ममता बनर्जी बीजेपी को चुनाव प्रचार करने से रोकना चाहती हैं। जोकि, पूरी तरह से राजनीती से प्रेरित है। गौरतलब है कि स्कूलों में बोर्ड की परीक्षा के चलते राज्य में कहीं भी किसी भी तरह की माइक और लाउडस्पीकर बजाने पर रोक लगाने का आदेश जारी किया गया था।

इस मामले में बीजेपी का कहना है कि प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के मानकों के मुताबिक एक तय सीमा तक माइक और लाउडस्पीकर बजाने की इजाजत होती है लेकिन इस 90 डेसीबल से कम आवाज में माइक बजाने की अनुमति देने के बजाय पूरे राज्य में किसी भी तरह का माइक और लाउडस्पीकर बजाने पर रोक लगा देना पश्चिम बंगाल सरकार की सोची समझी रणनीति है।
बीजेपी का कहना है कि परीक्षा केंद्र के आसपास माइक बजाने पर प्रतिबंध लगाई जा सकती है लेकिन पूरे राज्य में एक साथ प्रतिबंध नहीं लगाई जा सकती। चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने राज्य बीजेपी की याचिका को ख़ारिज कर दिया। सुप्रीम कोर्ट में अगली सुनवाई सोमवार को होगी।

Salmanसत्य, तथ्य, तर्क को शब्दों की चाशनी में डुबोकर पत्रकारिता धर्म निभाने वाला एक मजदूर Latest posts by Salman (see all)

Reactions

4
0
0
0
0
0
Already reacted for this post.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *