एशियन पैरा गेम्स : भुगतान नहीं होने के कारण भारतीयों को खेल गांव में प्रवेश से रोका गया

Please log in or register to like posts.
News
एशियन पैरा गेम्स : भुगतान नहीं होने के कारण भारतीयों को खेल गांव में प्रवेश से रोका गया

एशियन पैरा गेम्स : भुगतान नहीं होने के कारण भारतीयों को खेल गांव में प्रवेश से रोका गया

एशियन पैरा गेम्स के भारत के दल को जकार्ता में सोमवार को कुछ घंटों के लिए प्रवेश देने से आयोजकों ने इनकार कर दिया क्योंकि समय पर जरूरी भुगतान नहीं किए गए थे. भारतीय पैरालंपिक समिति (पीसीआई) के एक शीर्ष अधिकारी ने कहा कि पैरा खिलाड़ी पहुंचे तो शुरुआत में उन्हें प्रवेश देने से इनकार कर दिया गया, क्योंकि खेल मंत्रालय ने तब तक दो लाख 50 हजार डॉलर का भुगतान नहीं किया था.पीसीआई अधिकारियों ने इसके बाद लिखित में दिया कि चार अक्टूबर तक भुगतान कर दिया जाएगा और इसके बाद ही खिलाड़ियों को खेल गांव में प्रवेश की स्वीकृति दी गई. एशियन पैरा गेम्स जकार्ता में छह अक्टूबर को शुरू होंगे.भारतीय दल के साथ जकार्ता गए पीसीआई उपाध्यक्ष गुरशरण सिंह ने कहा कि अगस्त में हुए एशियन गेम्स के विपरीत पैरा खेलों में हिस्सा ले रही टीमों को रहने, प्रतियोगिता, पंजीकरण के अलावा अन्य खर्चों का भुगतान करना होता है. गुरशरण ने जकार्ता से बताया, ‘प्रत्येक देश को खेल गांव में अपने खिलाड़ियों को रखने के लिए भुगतान करना होता है, प्रतियोगिता और पंजीकरण फीस आदि का भी भुगतान करना होता है. इसलिए हमें लगभग 300 खिलाड़ियों के दल के लिए लगभग ढाई लाख डॉलर का भुगतान करना होगा. हम यहां बिना कोष के आए हैं और हमें खेल गांव में जाने में दिक्कत हुई. हमें उन्हें लिखित में देना पड़ा कि हम चार अक्टूबर तक भुगतान कर देंगे. अगर हम भुगतान नहीं करते हैं तो हमें खेल गांव से जगह खाली करने को कहा जा सकता है.’पीसीआई के शीर्ष अधिकारी ने कहा कि 60 पैरा खिलाड़ी और कुछ अधिकारी सोमवार को जकार्ता पहुंचे जबकि बाकी दल अगले कुछ दिनों में पहुंचेगा. इस मुद्दे का बाद में हल निकाल लिया गया और खेल सचिव राहुल भटनागर ने बताया कि जरूरी रकम स्थानांतरित कर दी गई है. भटनागर ने बताया, ‘हमने राशि स्थानांतरित कर दी (सोमवर देर शाम) और अब यह मुद्दा सुलझ गया है. पैरा खिलाड़ी अब खेल गांव के अंदर हैं.’ 

Reactions

0
0
0
0
0
0
Already reacted for this post.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *