ईरान से तेल आयात और रूस से रक्षा प्रणाली का भारत का फैसला फायदेमंद नहीं: अमेरिका

Please log in or register to like posts.
News
UN Security Council में भारत की स्थायी सदस्यता के लिए ट्रंप ने दोहराया समर्थन

ईरान से तेल आयात और रूस से रक्षा प्रणाली का भारत का फैसला फायदेमंद नहीं: अमेरिका

अमेरिका भारत के ईरान से four नवंबर के बाद तेल आयात जारी रखना और रूस से हवाई रक्षा प्रणाली एस-400 खरीदने के फैसले का बहुत ही सावधानीपूर्वक समीक्षा कर रहा है. अमेरिका के विदेश मंत्रालय ने यह बात कही. उन्होंने कहा कि ये भारत के लिए फायदेमंद नहीं रहेगा.अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के 2015 में बहुपक्षीय समझौते से हाथ खींचने के बाद से अमेरिका ईरान से सारा तेल आयात बंद करने की कोशिश कर रहा है. उसने अपने सभी सहयोगी देशों को four नंवबर तक ईरान से तेल आयात घटाकर शून्य करने को कहा है. भारत के ईरान से चार नवंबर के बाद भी तेल खरीदना जारी रखने पर विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हीथर नोर्ट ने कहा कि यह भारत के लिए फायदमेंद नहीं होगा.उन्होंने कहा, ‘ईरान से तेल आयात करना जारी रखने वालों पर चार नंवबर से प्रतिबंध प्रभावी होंगे. हम प्रतिबंधों को लेकर दुनिया भर के ईरान के कई भागीदारों और सहयोगियों के साथ बातचीत कर रहे हैं.’ नोर्ट ने कहा कि उन देशों के लिए हमारी नीति बहुत साफ है. इस मुद्दे पर हम ईरान सरकार के साथ भी बातचीत कर रहे हैं और संयुक्त व्यापक कार्य योजना के तहत हटाए गए सभी प्रतिबंधों को फिर से लगा रहे हैं.अमेरिका प्रतिबद्धट्रंप प्रशासन ने सभी देशों को यह संदेश स्पष्ट रूप से दे दिया है और राष्ट्रपति ने कहा कि अमेरिका सभी प्रतिबंधों को फिर से लगाने के लिए प्रतिबद्ध है. प्रवक्ता ने कहा, ‘प्रतिबंध लागू होने के बाद भी भारत के ईरान से तेल खरीदने पर अमेरिका के राष्ट्रपति ने चेताया था. मैं इससे पहले कुछ नहीं कह रही हूं लेकिन उन्होंने कहा था कि हम इसका ध्यान रखेंगे.’रूस से एस-400 हवाई रक्षा प्रणाली खरीदने पर काट्सा के तहत दंडात्मक कार्रवाई पर ट्रंप ने कहा था कि भारत को जल्द इस संबंध में पता चल जाएगा. नोर्ट ने कहा, ‘राष्ट्रपति ने कहा कि हम इसे देखेंगे. इसलिए मैं उनसे पहले कुछ नहीं कह रही हूं लेकिन जैसा मैं तेल और एस-400 प्रणाली खरीदने के बारे में सुन रही हूं. यह भारत के लिये फायदेमंद नहीं होगा.’

Reactions

0
0
0
0
0
0
Already reacted for this post.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *